सुबह



मटके में ठंडा पानी चलाती
जब तुम्हारी चूड़ियाँ खनकती हैं माँ,
मैं सुनता हूँ
जल तरंग पर राग भैरवी,
माँ तब होती है सुबह।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *