Tag: अफ़सर

ब्रीफकेस प्रसंगब्रीफकेस प्रसंग

मैं दफ़्तर में नया-नया हूँ और दफ़्तर की संस्कृति समझ रहा हूँ। जब कभी, जहाँ कहीं ब्रीफकेस देखता हूँ, भक्त मुद्रा में मैं श्रद्धा से भर जाता हूँ। ब्रीफकेस का स्वरूप कभी मुझे जादुई लगता है तो कभी दैविक। अस्थाना ...

साहब के दस्तख़तसाहब के दस्तख़त

हम साहब के बड़े क़द्रदाँ हैं। जब भी उनके चेम्बर में उनकी झलक मिलती है, हमारी भोज्य पाई फाइलों में कागज़ात उफनने लगते हैं। कागज़ात साहब के पेन का स्पर्श पा वैतरणी पार करना चाहते हैं, इसलिए तारक मुद्रा में ...