Tag: उत्सव

कल मिलो तोकल मिलो तो

कल मिलो तो साथ लानामाटी की वो ही महकजो तुम्हारी, बस तुम्हारी हैपारिजात फूलों की सुगंध,तुम-सी नहीं लगती। कल मिलो तो बाल वैसे ही भलेकहीं उलझे, कहीं बिखरेअभिजात्य केशों मेंउंगलियाँ नहीं फँसतीं, नहीं चलतीं। कल मिलो तो रंग पानी कातुम्हारी ...