Month: September 2020

इंडियन पपेट शोइंडियन पपेट शो

(विधानसभा थियेटर खचाखच भरा हुआ था। महामहिम राज्यपाल, उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश और मुख्यमंत्री प्रथम पंक्ति में विराजमान थे। यह विधानसभा सत्र नहीं था पर होहल्ला वैसा ही था। संगीत की फुहारें उठीं और दर्शक चुप होने लगे। स्पीकर ...

बापू का आधुनिक बंदरबापू का आधुनिक बंदर

गुजरात का नाम आए तो सबसे पहले बापू का नाम आता है, फिर फाफड़े, ढोकला, फरसाण और बापू के तीन बंदर। अब हाईटेक जमाना है, बंदर आदमी से ज़्यादा बुद्धिमान हो गए हैं। बापू इस समय होते तो तीन की ...

दाल-बाटी और चूरमादाल-बाटी और चूरमा

दिल्ली में बहुत धुंआ भर जाता है, और आकाश में धुंध। किसी को साफ़-साफ़ नहीं दिखता। राजनीति अंधी हो गई है और कूटनीति बहरी। अर्थनीति, व्यर्थनीति साबित हो रही है। नोटबंदी, कालेधन की नसबंदी नहीं कर सकी है तथा जी ...

लगे रहो मेरे भाईलगे रहो मेरे भाई

सुबह से डेटा आ रहे हैं। थोक में आ रहे हैं पर मुफ़्त में आ रहे हैं और मेरे मोबाइल में भरते जा रहे हैं। सरकारी ख़जाने में टैक्स भरते जाओ, भरते जाओ, पर उसका पेट नहीं भरता। मेरे मोबाइल ...

बादलों को चखने का समयबादलों को चखने का समय

जब बारिश में भीगना चुनता हूँ बेपरवाह हो जाता हूँ नहीं देखता तब कि कितना भरा है बादल कितनी तीखी हैं बौछारें कितनी तेज़ है हवा। अभिषेक की धार देखने के लिए ध्यानमग्न हो जाती हैं आँखें मुँह अपने विस्तार ...

आदिवासी होस्टल के बच्चेआदिवासी होस्टल के बच्चे

घर की कच्ची दीवारों में कभी गूंजी नहीं कोई प्रार्थना यहाँ सुबह शाम ज़ोर से गाना होती हैं प्रार्थनाएँ ताकि मास्टरजी को लगे बच्चे संस्कृति से जुड़ रहे हैं आदिवासी बच्चे हैं उनको रहना है भगवान भरोसे ही। घर के ...

आधुनिकता का चेहराआधुनिकता का चेहरा

मॉल में हमें कुछ ख़रीदना नहीं होता चीज़ों को उलटने-पलटने और कीमतें देखने के सिवा। श्रृंगार कविता-सी सजी-धजी मॉल फ़ुरसत के वक़्त में रूमानी बना देती है इसके चलते कागज़ का अधिकृत टुकड़ा अर्थशास्त्र बन जाता है। मॉल में कई ...

अ – अधिकार काअ – अधिकार का

वह था ग़रीब क्या मालूम ग़रीब पैदा हुआ था या हालात् ने कर दी थी यह हालत कुछ तो हुआ होगा अन्याय वरना उसके हिस्से भी वही सूरज था वही नदी थी, वही हवा थी फिर कहाँ हो गई चूक? ...

संविधानसंविधान

ना बाँचा, ना देखा, सिर्फ सुना है संविधान के बारे में पटवारी साब जानते हैं खसरा-खतौनी दरोगा साब जानते हैं गाली-गलौच कंपाउंडर साब जानते हैं दस रुपये वाली दवा मास्साब को मालूम है विधायक जी का पता पुजारी जी जानते ...

उस समय सेउस समय से

उस समय से इस समय तक बस गडरिए ही चले गर्दन झुका भेड़ें जुड़ती रहीं। करोड़ों भेड़ें लील गया महाभारत कलिंग में बहीं खून की नदियाँ धुँआ हो गया हिरोशिमा वियतनाम, ईरान से सीरिया तक आदमी ही कटा, गडरिए चलते ...